Saturday, April 20, 2024
HomeIndia35 साल में 236 चुनाव लड़ चुके इलेक्शन किंग ने अब यहां...

35 साल में 236 चुनाव लड़ चुके इलेक्शन किंग ने अब यहां से किया नामांकन

Telangana Election 2023 News: तेलंगाना में आगामी विधानसभा चुनाव के लिए पिछले दिनों नोटिफिकेशन जारी हुआ. इसी के साथ वहां नामांकन की प्रक्रिया भी शुरू हुई. कई बड़े नेताओं ने अपना नॉमिनेशन फाइल किया है, लेकिन सबसे ज्यादा सुर्खियां एक निर्दलीय प्रत्याशी बटोर रहा है. यह प्रत्याशी बाकियों से थोड़ा अलग है और यही बात उसे खास बनाती है.

हम जिस प्रत्याशी की बात कर रहे हैं उनका नाम पद्मराजन है. पद्मराजन ने गजवेल निर्वाचन क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में पर्चा भरा है. यहां उनका मुकाबला प्रदेश के सीएम और बीआरएस के प्रमुख के. चंद्रशेखर राव से होगा. पद्मराजन ने नामांकन दाखिल करने के बाद चुनाव प्रचार करना भी शुरू कर दिया है.

निकाय से लेकर राष्ट्रपति चुनाव तक लड़ चुके हैं  

डेक्कन हेराल्ड की रिपोर्ट के मुताबिक, इलेक्शन किंग के नाम से मशहूर पद्मराजन देशभर में 236 चुनाव लड़ चुके हैं. पद्मराजन ने बताया कि तमिलनाडु, कर्नाटक, यूपी और दिल्ली जैसे राज्यों में स्थानीय निकायों से लेकर राष्ट्रपति तक के चुनावों को मिलाकर यह उनका 237वां नामांकन है. लोग भी उनसे मिलते हैं और फोटो खिंचवाते हैं.

पहली बार मेट्टूर निर्वाचन क्षेत्र से लड़ा था चुनाव

टायर मरम्मत की दुकान चलाने वाले पद्मराजन ने बताया कि उन्होंने 1988 में तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के दौरान मेट्टूर निर्वाचन क्षेत्र से पहली बार नामांकन दाखिल किया था. इसके बाद से यह सिलसिला जारी है. वह पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पीवी नरसिम्हा राव के खिलाफ भी चुनाव लड़ चुके हैं.

अब तक चुनाव में खर्च कर चुके हैं 1 करोड़ रुपये

पद्मराजन बताते हैं कि वह होम्योपैथिक डॉक्टर भी हैं. चुनाव लड़ने के अपने जुनून से वह कई रिकॉर्ड बना चुके हैं. अपने इस जुनून के लिए वह अब तक करीब 1 करोड़ रुपये खर्च कर चुके हैं. उन्होंने 2019 के आम चुनाव में केरल के वायनाड से एआईसीसी के पूर्व प्रमुख राहुल गांधी के खिलाफ भी चुनाव लड़ा था. पद्मराजन कहते हैं कि इतने चुनावों में उन्हें सबसे ज्यादा वोट 2011 के तमिलनाडु विधानसभा चुनावों में मेट्टूर निर्वाचन क्षेत्र से ही मिला था. तब उन्हें 6273 वोट मिले थे. वहीं, कुछ पंचायत चुनावों में उन्हें एक भी वोट नहीं मिला है.

ये भी पढ़ें

Albert Einstein: क्यों अल्बर्ट आइंस्टीन की मौत के बाद उनके दिमाग के 240 टुकड़े किए गए

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments